Recents

Seo Services

Coulomb's Law in Hindi

Coulomb's Law in Hindi :-


हैलो दोस्तों मैं आपका स्वागत करता हूँ, हमारे इस ब्लॉग में, इस ब्लॉग पोस्ट के माध्यम मैं आपको कूलॉम के नियम  Coulomb's Law in Hindi के बारे में पूरी जानकारी दूंगा। 


परिचय :-

 सन 1785 में एक फ्रांसीसी भौतिकी वैज्ञानिक कूलॉम ने दो स्थिर बिंदु आवेशों के बीच कार्य करने वाले बल के संबंध में एक नियम प्रतिपादित किया जिसे कूलॉम का नियम कहा जाता है। 

 

कूलॉम का नियम " Coulomb's law in Hindi "

दो स्थिर बिंदु आवेशों के बीच कार्य करने वाला आकर्षण अथवा प्रतिकर्षण बल दोनों आवेशों के परिमाणों के गुणनफल के समानुपाती तथा उनके बीच की दूरी के वर्ग के व्युत्क्रमानुपाती होता है यह बल दोनों आवेशों को मिलाने वाली रेखा के अनुदिश कार्य करता है इसे कूलॉम के व्युत्क्रम वर्ग का नियम भी कहते हैं। 

कूलॉम के नियम का सत्यापन :-


माना कि q1 तथा q2 दो बिंदुवत स्थिर आवेश है तथा इनके बीच की दूरी r है तब कूलॉम के नियमानुसार इनके बीच लगने वाला वैद्युत बल


Coulomb's Law in Hindi, कूलॉम का नियम
Coulomb's Law in Hindi
F ∝ q1q2

F ∝ 1/r²

F = KIq1llq2l /   –––––– (1)

जहाँ K एक समानुपातिक नियतांक है जिसका मान दोनों आवेशों के बीच के माध्यम की प्रकृति एवं मापन की पद्धति पर निर्भर करता है।
समीकरण (1) से -

K = Fr² / Iq1l lq2l
                             
K का SI मात्रक = N x m² / C² Nm² /  = Nm²C‐²
                                                             
K का विमीय सूत्र = [F] x [r²] / [Q] x [Q] MLT-² x L² / AT x AT = MLT-²L²A-²T-² = ML³A-²T-⁴

यदि दो आवेशों q1 तथा q2 के बीच माध्यम निर्वात या वायु हो तब मात्रकों की पद्धति में K का मान   

SI पद्धति में K का मान   

                                            
K = 1 / 4πεo  –––––– (2)
                                         
K = 1 / 4 x 3.14 x 8.854 x 10-¹² = 9 x 10-⁹ Nm²C‐²
                                        
अतः निर्वात या वायु में दो स्थिर आवेशों के बीच लगने वाला वैद्युत बल F = 9 x 10-⁹ x Iq1llq2l /  N
                                                                                                                            
CGS पद्धति में K का मान   

यदि दो स्थिर आवेशों q1 तथा q2 के बीच माध्यम निर्वात या वायु हो तथा मात्रकों की पद्धति CGS में K का मान 1 होता है

अतः निर्वात में दो स्थिर आवेशों के बीच लगने वाला वैद्युत बल F = Iq1llq2l  डाइन
                                                                                                                                    
यदि दो आवेशों q1 तथा q2 के बीच माध्यम निर्वात या वायु न होकर कोई अन्य माध्यम हो तब मात्रकों की पद्धति में K का मान    

SI पद्धति में K का मान  
                                              
K = 1 / 4πεoε Nm²C‐² 
                                           
जहाँ ε को माध्यम की निरपेक्ष विधुतशीलता कहते है। 
                                                                                                                                                  
 अतः वायु के अतिरिक्त माध्यम में दो स्थिर आवेशों के बीच लगने वाला वैद्युत बल F = Iq1llq2l / 4πεoε 
                                                                                                                                         
CGS पद्धति में K का मान
                                           
K = 1 / ε
                                            
अतः वायु के अतिरिक्त माध्यम में दो स्थिर आवेशों के बीच लगने वाला वैद्युत बल F = Iq1llq2l / ε

εo क्या है।

εo को वायु की विधुतशीलता कहते है।

समीकरण (2) से k का मान समीकरण (1) में रखने पर            
                                     
F = Iq1llq2l / 4πεor²
                                     
अतः εo = Iq1llq2l / 4πFr²
                                               
 εo का SI मात्रक =  q1 का SI मात्रक x q2 का SI मात्रक / F का SI मात्रक x (r का SI मात्रक)² =  C x C / Nm² C² / Nm² = C²N-¹m-²
                                                          
नोट :- εo का SI मात्रक Fm-¹ भी होता है।

εo का विमीय सूत्र[q1] x [q2] / [F] x [r²]  =  AT x AT / MLT-² x L² A²T² / ML³T-² =  A²T⁴M-¹L-³
                                                               
नोट :- SI पद्धति में εo का मान 8.854 x 10-¹² C²N-¹m-² होता है।

कूलॉम की परिभाषा → निर्वात में परस्पर 1 मीटर की दूरी पर स्थित दो समान परिमाण के आवेशों के मध्य 9 x 10-⁹ N विधुत बल कार्यरत होता है तब प्रत्येक आवेश का परिमाण कूलॉम के तुल्य होता है। 

 

परावैद्युतांक क्या है। 

विभिन्न प्रयोगों के प्रेक्षणों के आधार पर यह पाया जाता है की निर्वात या वायु में दो आवेशों के मध्य विद्युत बल सर्वाधिक होता है जबकि विद्युत रोधी माध्यम की उपस्थिति में यह अपेक्षाकृत कम हो जाता है सुचालक माध्यम की उपस्थिति में बल का मान शून्य हो जाता है इस प्रकार किसी माध्यम की उपस्थिति में आवेशों के मध्य बल निर्वात की तुलना में जितना गुना कम प्राप्त होता है उस राशि को माध्यम का परावैद्युतांक या आपेक्षिक विद्युतशीलता अथवा विशिष्ट परावैद्युतता कहते हैं। इसे εr से सूचित किया जाता है। 
                                                       
 परावैद्युतांक εr = वायु में आवेशों के मध्य बल (F) / अभीष्ट माध्यम में आवेशों के मध्य बल (Fm)

जब q1 तथा q2 दो बिंदु आवेश हवा में एक दूसरे से r दूरी पर स्थित हो तो उनके बीच कार्य करने वाला कूलॉम का बल
                                        
 F =  Iq1llq2l / 4πεo  ––––––– (3)
                                                     
यदि इन आवेशों के बीच विद्युतशीलता वाला कोई माध्यम भर दिया जाए तब उनके बीच कार्य करने वाला बल     

Fm =  Iq1llq2l / 4πεoε –––––– (4)
                                                 
समीकरण (3) में समीकरण (4) से भाग देने पर 
                                                              
εr = F / Fm = Iq1llq2l / 4πεor² / Iq1llq2l / 4πεoε  εr =  ε / εo ⇒ ε = εrεo                
                                                            
अतः किसी माध्यम का परावैद्युतांक (εr) उस माध्यम की निरपेक्ष विद्युतशीलता तथा निर्वात की विद्युतशीलता के अनुपात के बराबर होता है। 


कूलॉम के नियम से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य  

1. इस नियम के लिए आवेश बिंदुवत एवं स्थिर होना चाहिए सामान्यतः गोलीय आवेशों को ही प्रयुक्त करते हैं। 

2. यह गति के तृतीय नियम का पालन करता है। 

3. कूलॉम का नियम 10-¹⁵ मीटर से कुछ किलोमीटर की दूरी के लिए लागू होता है। 

4. यह बल कणों के द्रव्यमान पर निर्भर नहीं करता है। 

>> ओम का नियम | Ohm's Law in Hindi 

अगर आपको मेरा यह पोस्ट  "Coulomb's Law in Hindiअच्छा लगा हो  या किसी तरह की कोई परेशानी हो तो कृपया मेरे पोस्ट पर कमेंट तथा मेरे पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। 

धन्यवाद !
Coulomb's Law in Hindi Coulomb's Law in Hindi Reviewed by Dilgitshop on September 28, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.